You are here
Home > Daily GK Update > Nipah virus Symptoms Prevention, treatment And Cure, killed 10 people so far

Nipah virus Symptoms Prevention, treatment And Cure, killed 10 people so far

What Is Nipah Virus Symptoms Prevention And Cure

What is Nipah Virus and Symptoms, Prevention & Cure Nipah virus wikipedia hindi Virus Expands Virus was first spread in Malaysia How to Protect Nipah from Virus What You Should Know About the Nipah Virus nipah virus symptoms Nipah virus transmission Nipah virus treatment Nipah virus outbreak Nipah virus history  nipah virus prevention nipah virus malaysia

Background Nipah virus (NiV) first emerged in Malaysia in 1998 Nipah virus Bats Strain Nipah virus in Malaysia Nipah virus; henipavirus; pathogenesis; pathology; animal models; zoonotic transmission; human-to-human transmission emerging virus infections

हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो

Nipah virus killed 10 people so far

What is Nipah Virus
Virus is a spreading virus, a virus that is a virus spreading from humans to humans and it enters from one person to another. It is an untouched virus. If a person has Nipah virus then what is the symptoms of it? Symptoms of fever, headache, mental confusion, deviation, coma and death in the last are visible. The first identity of the Nipah virus was in 1998 in Malaysia, let’s see how Nipah Virus spreads.

क्या है Nipah वायरस, क्‍या है निपाह वायरस
वायरस एक फैलने वाला वायरस है एक ऐसा वायरस है जो जानवरों से इंसानों में फैलने वाला वायरस है और यह एक मनुष्य से दूसरे मनुष्य में प्रवेश हो जाता है यह एक छुआछूत वाला वायरस है अगर किसी मनुष्य को Nipah वायरस हो तो उसके क्या लक्षण है तेज बुखार, सिरदर्द, मानसिक भ्रम, विचलन, कोमा और आखिर में मौत होने के लक्षण नजर आते हैं। Nipah वायरस की पहली पहचान 1998 मलेशिया में हुई थी आइए जाने कैसे फैलता है Nipah वायरस

How Nipah Virus Expands
The nippy virus actually comes in bat first. After this, it reaches fruits or fruits. When a person consumes these fruits, it reaches his body. Nipah virus spreads through exposure to human infected pigs, bats or other infected organisms. This virus causes encephalitis. The most nutritious fruit bats produced by Nipah virus, called fruit bats, which primarily consumes fruit or fruit juice, are the main carriers of the nipah virus.

Virus was first spread in Malaysia
According to the WHO, in 1998 1998, Nipah Virus Infection was detected for the first time in Kampung Sungai, Malaysia. The name of this virus was also named after the Sungai Nipah village where the virus was detected for the first time. In Malaysia this disease spread among farmers due to the inhibition of infected pigs.

Symptoms of Nipah Virus
The person suffering from this symptoms is diagnosed with acute infection fever, headache, mental confusion, deviation, coma and death at the end in the form of this encephalic syndrome. In Malaysia, due to this, nearly 50 percent of patients died.

How to Protect Nipah from Virus
Keep distance from infected pigs, bats or other infected organisms. If doctors believe that this disease spreads mainly due to fruit bats. When a person or an animal eat fruits or vegetables made by bats, then this virus spreads to them. Therefore, in terms of security it is very necessary that fruits not falling on the ground should not be eaten.

Nipah वायरस से अब तक 10 लोगों की मौत

कैसे फैलता है निपा वायरस
निपा वायरस वास्तव में सबसे पहले चमगादड़ों में आता है। इसके बाद यह फलों यानी फ्रूट्स तक पहुंचता है। जब इंसान इन फलों का सेवन करता है तो ये उसके शरीर में पहुंच जाता है। निपाह वायरस मनुष्यों के संक्रमित सुअर, चमगादड़ या अन्य संक्रमित जीवों से संपर्क में आने से फैलता है। यह वायरस एन्सेफलाइटिस का कारण बनता है। सबसे ज्यादा Nipah वायरस को फलाने काम चमगादड़ जिसे फ्रूट बैट कहते हैं जो मुख्य रूप से फल या फल के रस का सेवन करता है, वही निपाह वायरस का मुख्य वाहक है।

पहली बार मलयेशिया में फैला था वायरस
WHO की मानें तो 1998 में मलयेशिया के काम्पुंग सुंगई में पहली बार Nipah वायरस इंफेक्शन का पता चला था। इस वायरस का नाम भी उस सुंगई निपाह गांव के नाम पर ही पड़ा जहां पहली बार इस वायरस का पता चला था। मलयेशिया में यह बीमारी संक्रमित सूअरों की चपेट में आने की वजह से किसानों में फैली थी।

Nipah वायरस के लक्षण
इससे पीड़ित मनुष्य को इस इन्सेफलेटिक सिंड्रोम के रूप में तेज संक्रमण बुखार, सिरदर्द, मानसिक भ्रम, विचलन, कोमा और आखिर में मौत होने के लक्षण नजर आते हैं। मलेशिया में इसके कारण करीब 50 फीसदी मरीजों की मौत तक हो गई थी।

निपाह वायरस से बचाव के लिए क्या करें, निपाह वायरस से बचने के आसान तरीके

कैसे बचाव करें Nipah वायरस से
संक्रमित सुअर, चमगादड़ या अन्य संक्रमित जीवों से दूरी बनाए रखें। डॉक्टरों की मानें तो फ्रूट बैट्स की वजह से यह बीमारी मुख्य रूप से फैलती है। जब इंसान या कोई जानवर चमगादड़ों द्वारा झूठे किए फल या सब्जियों को खाते हैं तो उनमें भी यह वायरस फैल जाता है। लिहाजा सुरक्षा के लिहाज से बेहद जरूरी है कि जमीन पर गिरे फल न खाए जाएं।

Nipah वायरस से बीमारी से पीड़ित किसी व्यक्ति से संपर्क न करें. यदि मिलना ही पड़े तो बाद में साबुन से अपने हाथों को

Background Nipah virus (NiV) first emerged in Malaysia in 1998 Nipah virus Bats Strain Nipah virus in Malaysia
Nipah virus; henipavirus; pathogenesis; pathology; animal models; zoonotic transmission; human-to-human transmission emerging virus infections Nipah virus outbreak in India

Top