You are here
Home > Biography > Maharana Kumbha Biography, History, Fort, Fight, and Facts

Maharana Kumbha Biography, History, Fort, Fight, and Facts

Maharana Kumbha Biography, History, Fort, Fight, and Facts

history of maharana kumbha biography maharana kumbha Family Spouse photo rana kumbha wikipedia
in hindi english Life Rana kumbha wife name Rana kumbha Death Rana kumbha mokal singh father
of mokal singh Battle of Nagaur Rana Kumbha of Chittorgarh Maharna Kumbha of Mewar “karn of rajputana

Maharana Kumbha Biography, History, Fort, Fight, and Facts

Rana Kumbha was a great warrior and successful ruler of Mewar. Rana Kumbha is also known as Kumbharan and Kahuna Rana Kumbha. After Lakkasinh’s death in 1418 AD, his son Mokal became the king of Mewar, but in 1431 AD he died and his successor ‘Rana Kumbha’ happened. In 1433, he sat on the throne of Mewar and first defeated his enemy Deora Chauhan and defeated Abu.Rana Kumbha was very fond of architecture.

हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो

Out of the 84 fields built in Mewad, 32 quarries were constructed. Apart from this, many more buildings and temples were built. Sultan beat Mahmud Khaliji badly. To make his victory memorable, he built a kirtist in Chittaur, which is very well known.

Battle of Nagaur

The Battle of Nagar of 1455 is considered to be the most important of Rana. In this battle, he defeated King Mujahid Khan there and made Shams Khan a king. But when he sat on the throne, he rebelled with Rana. Rana again climbed to Nagaur again.
As a result, Shams went to Gujarat’s emperor Qutubuddin by saving his life. Then came to face Rana with his army. He thought that he would win the war with Rana, but Rana defeated him too.

The death
In 1473 AD, he was murdered by his son Uday Singh. Because of opposition from Rajput warlords, Uday Singh could not enjoy power for more days. After that his younger brother Rajmal reign from 1473 to 1509 AD sits on the throne. After his death in 1509 AD,

after the successful reign of 36 years, his son Rana Sangram Singh or ‘Rana Sanga’ reign 1509 to 1528 CE sat on Mewar’s throne. During his reign, he campaigned against Delhi, Malwa, Gujarat. He was defeated by Mughal emperor Babur in the battle of Khanva in 1527 AD. After this, due to the absence of powerful rule, Jahangir took it under the Mughal Empire.

महाराणा कुंभ जीवनी, इतिहास, किला, लड़ो और तथ्यों

राणा कुम्भा मेवाड़ के एक महान् योद्धा व सफल शासक थे।राणा कुम्भा को कुम्भकरण और कँहू राणा कुम्भा के नाम से भी जाना जाता है. 1418 ई. में लक्खासिंह की मृत्यु के बाद उसका पुत्र मोकल मेवाड़ का राजा हुआ, किन्तु 1431 ई. में उसकी मृत्यु हो गई और उसका उत्तराधिकारी ‘राणा कुम्भा’ हुआ।

1433 में वह मेवाड़ की गद्दी पर बैठे और सबसे पहले अपने दुश्मन देवड़ा चौहानों को हराकर आबू पर अपना कब्जा जमाया.।राणा कुम्भा स्थापत्य का बहुत अधिक शौकीन था। मेवाड़ में निर्मित 84 क़िलों में से 32 क़िलों का निर्माण उसने करवाया था। इसके अतिरिक्त और भी बहुत सी इमारतें तथा मन्दिरों आदि का निर्माण भी उसने करवाया। सुलतान महमूद खिलजी को बुरी तरह से हराया।अपनी इस जीत को यादगार बनाने के लिए उन्होंने चित्तौड़ में एक कीर्तिस्तंभ बनवाया, जोकि बहुत विख्यात है.

नगौर की लड़ाई

1455 की नगौर की लड़ाई को राणा की सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है. इस लड़ाई में उन्होंने वहां के राजा मुजाहिद खां को हरा कर शम्स खां को राजा बना दिया.पर उसने सत्ता पर बैठते ही राणा के साथ बगावत कर दी.।इस लिए राणा ने दोबारा से नागौर पर चढ़ाई कर दी.
नतीजा यह रहा कि शम्स अपनी जान बचाकर गुजरात के बादशाह कुतुबुद्दीन के पास जा पहुंचा. फिर उसकी सेना के साथ राणा का सामना करने आया. उसे लगा था कि वह राणा से युद्ध जीत लेगा, लेकिन राणा ने उसको भी हरा दिया।

मृत्यु
1473 ई. में उसकी हत्या उसके पुत्र उदयसिंह ने कर दी। राजपूत सरदारों के विरोध के कारण उदयसिंह अधिक दिनों तक सत्ता-सुख नहीं भोग सका। उसके बाद उसका छोटा भाई राजमल शासनकाल 1473 से 1509 ई. गद्दी पर बैठा।

36 वर्ष के सफल शासन काल के बाद 1509 ई. में उसकी मृत्यु के बाद उसका पुत्र राणा संग्राम सिंह या ‘राणा साँगा’ शासनकाल 1509 से 1528 ई. मेवाड़ की गद्दी पर बैठा। उसने अपने शासन काल में दिल्ली, मालवा, गुजरात के विरुद्ध अभियान किया। 1527 ई. में खानवा के युद्ध में वह मुग़ल बादशाह बाबर द्वारा पराजित कर दिया गया। इसके बाद शक्तिशाली शासन के अभाव में जहाँगीर ने इसे मुग़ल साम्राज्य के अधीन कर लिया।

history of maharana kumbha biography maharana kumbha Family Spouse photo rana kumbha wikipedia
in hindi english Life Rana kumbha wife name Rana kumbha Death Rana kumbha mokal singh father
of mokal singh Battle of Nagaur Rana Kumbha of Chittorgarh Maharna Kumbha of Mewar “karn of rajputana

Top