You are here
Home > Biography > Maharaja Ranjit Singh Biography, Battle, Sikh Empire, Life History

Maharaja Ranjit Singh Biography, Battle, Sikh Empire, Life History

maharaja ranjit singh history

Maharaja Ranjit Singh Jivani, Biography, Battle, Punjab history, Punjab history GK,  Sikh Empire, Life History founder of Sikh empire Where was the capital of Ranjit Singh the king of Punjab located Battle of Maharaja Ranjit Singh Maharaja Ranjit Singh Biography, Childhood, Life Achievements, Shere Punjab Maharaja Ranjit

 

हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो

महाराजा रणजीत सिंह का इतिहास, महाराजा रणजीत सिंह के युद्ध, शेर-ए पंजाब महाराजा रणजीत सिंह की जीवनी

महाराजा रणजीत सिंह (जो शेर-ए पंजाब के नाम से प्रसिद्ध हैं), वे सिख साम्राज्य के राजा थे। महाराजा रणजीत सिंह का जन्म सन 1780 में गुजरांवाला ( पश्चिम पंजाब अब पाकिस्तान का हिस्सा है, महाराजा महां सिंह के घर हुआ था। उन दिनों पंजाब पर सिखों और अफगानों का राज चलता था. महाराजा रणजीत सिंह की छोटी सी उम्र में चेचक की वजह से एक आंख की रोशनी चली गई थी।

महाराजा रणजीत सिंह 12 वर्ष के थे जब पिता (महाराजा महां सिंह) चल बसे और राजपाट का सारा बोझ उन पर आ गया। 12 अप्रैल 1801 को रणजीत ने महाराजा की उपाधि ग्रहण की। उन्होंने लाहौर को अपनी राजधानी बनाया और सन 1802 में अमृतसर की ओर रूख किया।

नाम : रणजीत सिंह (शेर-ए- पंजाब) (King of Lion)/ Ranjit सिंह

जन्म 13 नवंबर, 1780 गुंजारवाला ( पश्चिम पंजाब – अब पाकिस्तान का हिस्सा)

पिता का नाम महा सिंह

माता का नाम राज कौर

पत्नी का नाम महतबा कौर

संताने:  खड़क सिंह, ईशर सिंह, शेर सिंह, तारा सिंह, कश्मीरा सिंह, पेशौरा सिंह, मुल्ताना सिंह, दलीप सिंह

शासनकाल‎: ‎12 अप्रैल 1801 – 27 जून 1839

मृत्यु सन 1839

उपलब्धि सिख साम्राज्य के संस्थापक

महाराजा रणजीत सिंह के युद्ध

पंजाब के भिन्न-भिन्न मिसलों पर जीत हासिल की
ई॰ 1803 में अकालगढ़ पर विजय।
ई॰ 1804 में डांग तथा कसूर पर विजय।
ई॰ 1805 में अमृतसर पर विजय।
ई॰ 1809 में गुजरात पर विजय।

ई 1806 में दोलाधी गाँव पर किया कब्जा।
ई॰ 1806 में ही लुधियाना पर जीत हासिल की।
ई॰ 1807 में जीरा बदनी और नारायणगढ़ पर जीत हासिल की।
ई॰ 1807 में ही फिरोज़पुर पर विजय प्राप्त की।

अमृतसर की संधि
कांगड़ा पर विजय (ई॰ 1809)
मुल्तान पर विजय (ई॰ 1818)
कटक राज्य पर विजय (ई॰ 1813)
कश्मीर पर विजय (ई॰ 1819)
डेराजात की विजय (ई॰ 1820-21)
पेशावर की विजय (ई॰ 1823-24)
लद्दाख की विजय (ई॰ 1836)

 

Maharaja Ranjit Singh (who is popularly known as Sher-e-Punjab), was the King of the Sikh Empire. Maharaja Ranjeet Singh was born in Gujranwala (West Punjab is now part of Pakistan, Maharaja Maha Singh’s house in 1780. In those days, the rule of Sikhs and Afghans was going on in Punjab, due to smallpox in Maharaja Ranjit Singh’s younger age. One eye light was gone.

Who is the founder of Sikh empire?

Ranjit Singh

Where was the capital of Ranjit Singh the king of Punjab located?

In July 1799 he seized Lahore, the capital of the Punjab (now the capital of Punjab province, Pakistan).

 

maharaja ranjit singh history in hindi pdf lines on maharaja ranjit singh in hindi maharaja ranjit singh family history in hindi maharaja ranjit singh short story in hindi maharaja ranjit singh history in punjabi pdf history of maharaja ranjit singh in punjabi language maharaja ranjit singh ki jivani

 

Top