You are here
Home > History > Indus Valley Civilization Sindhu Ghati Sabhyata Facts About history

Indus Valley Civilization Sindhu Ghati Sabhyata Facts About history

Indus Valley Civilization Sindhu Ghati Sabhyata Facts About history

Important Facts About question Trick the Indus Valley Civilization sindhu ghati sabhyata religion in hindi history discovered sindhu ghati sabhyata ki lipi konsi hai ki ki khoj wikipedia wiki सिंधु घाटी सभ्यता का पतन सिंधु घाटी सभ्यता के पतन के कारण सिंधु घाटी सभ्यता की कला trick

हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो

Indus Valley Civilization.

-Sindhu Valley Civilization was searched by Raibahadur Dayaram Sahni. The Indus Civilization can be kept in the  Protohistoric or  Bronze era. The main inhabitants of this civilization were Dravid and the Mediterranean.
Sukkagendor along the banks of the river Hinden, Alamgirpur on the banks of the Hindan river, Northern Purnaal on the banks of the river Chinna, Maaida near Akhnoor and Daimabad (District Ahmednagar Maharashtra) on the banks of the Godavari river.

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो, इस पोस्ट को पूरा पढ़ें क्या पता आपके लिए कौन सा पॉइंट हेल्पफुल हो

Read this post completely. Which point is helpful for you?

-Sindhu civilization or Saintha civilization was a civilian civilization, only a place of mature status obtained from Saintha civilization, only 6 have been given the name of big city. This is – Mohanjodaro, Harappa, Ganawarivala, Dholavira Rakhijhari and Kalibangan.
– After attaining independence, most places of Harappan culture have been discovered in Gujarat. Lothal and Sukkotada were the port of Indus civilization.

Siddhu Civilization Manufacturers and Residents
This is a very controversial topic. There are some types of books in this dispute-

-‘Daw. Lakshman Swaroop and Ramchandra believe in Arya as the creator of Indus Civilization and Vedic civilization.
-Garden Child ” Sumerian ‘people as people of the Indus Civilization believe.
-‘Rakal Das Banerjee ‘considers Dravidians as the creator of this civilization
-Heviler believes that the bandit and ‘Das’ mentioned in the Rig Veda were the creators of the Indus civilization.
By observing all the controversies, ‘Dr. Rama Shankar Tripathi says that ‘standing on this boundary of historical knowledge, our silence on this subject is justified and justified.’

Foreign trade of indus.

Imported goods                       state
Copper                                     Balochistan, Oman
Silver                                         Afghanistan, Iran
Gold,                                         karnataka, afghanistan, iran
Tin                                               Afghanistan, Iran
Lajwart                                       Mesopotamia

Main point

The large bathhouse from Mohenjodaro is a prominent monument, through which the bath pool is 11.88 meters long, 7.01 wide and 2.43 meters deep. Unique ponds are obtained from Lothal and Kalibangan. On the eve of Mohenjodaro, the idol of the three face Devata Pashupatinath has been found; all four elephants, rhinoceros, cheetahs and buffaloes are seated. Mohenjodaro Ntak has found a bronze statue. Harappa seals get the marking of one of the most revered animals.

Harappa was a well-planned urban civilization of 6000-2600 BC. Archaeological excavation was also done in Harappan in the same series of Mohanjodaro, Mehrgarh and Lothal. Here are the remains of ancient civilization like Egypt and Mesopotamia. It was discovered in 1920. Presently it is located in the Punjab province of Pakistan. In 1857, bricks of Harappan Nagar used to make the Lahore Multan railroad, which caused it to be badly damaged.

In addition to the manufacture of seals and dolls at the place called Chanhuds, located in the south of Mohan jodado, many objects were made from bones. This city was first discovered by N.Gopal Majumdar in 1931 and in 1943 AD, excavation was done by ‘Mackay’. Evidence of ‘Sadhv culture’ from the lowest level is available.

Lothal
It is situated near the village of ‘Sargavala’ on the banks of ‘Bhogawa River’ in Ahmedabad district of Gujarat. Excavation was done in 1954-55 under the leadership of Ranganath Rao.
From this site five levels of contemporary civilization have been found. Here two different moles are not found, but the entire settlement was surrounded by the same wall.

Kalibanga
This place is situated on the left bank of the Ghagghar river in Ganganagar district of Rajasthan. Excavation In 1953 ‘BB’ Red ‘and’ b. K. Made by ‘thapaar’ Here the relics of pre-Harappan and Harappan culture have been found.

Siddhu civilization and its finder
Key Locator                   Finder                                                           Year
1- Harappa                    Madho Format Vatsa, Dayaram Sahni,         1921
2- Mohan Jodardo         Rakal Das Banerjee                                      1922
3- Ropard                      Yajnadutt Sharma                                          1953
4- Kalibanga                   Brajvadi Lal, Amalananda Ghosh,                1953
5- Lothal                        A. Ranganath Rao,                                         1954
6- Chanhudas                N. Gopal Majumdar                                         1931
7 Sarkottda                     Jagpati Joshi                                                   1964
8 बणावली                         Rabindra Singh                                                1973
9- Alamgirpur                  Yajnadutt Sharma,                                           1958
10- Rangpur,                   Madhuswar Vats, Ranganath Rao,                 1931.-1953
10-Kottadi                        Fazal Ahmed                                                  1953
11- Sutcagandor              Aurel Stein, George F. Dells                           1927

सिंधु घाटी सभ्यता
सिंधु घाटी सभ्यता की खोज रायबहादुर दयाराम साहनी ने की| सिंधु सभ्यता को प्राकृऐतिहासिक Protohistoric अथवा कांस्य Bronze युग में रखा जा सकता है| इस सभ्यता के मुख्य निवासी द्रविड़ एवं भूमध्य सागरीय थे।
-सिंधु सभ्यता के सर्वाधिक पश्चिमी पुरास्थल दशक नदी के किनारे सुतकागेंडोर ,पूर्वी पुरास्थल हिण्डन नदी के किनारे अालमगीरपुर ,उत्तरी पुरास्थल चिनाव नदी के तट पर अखनूर के निकट माँदा तथा दक्षिण पुरास्थल गोदावरी नदी के तट पर दाइमाबाद (जिला अहमदनगर महाराष्ट्र)।

-सिंधु सभ्यता या सैंधव सभ्यता नगरीय सभ्यता थी सैंधव सभ्यता से प्राप्त परिपक्व अवस्था वाले स्थलों मैं केवल 6 को ही बड़े नगर की संज्ञा दी गई है| यह है- मोहनजोदड़ो, हड़प्पा, गनवारीवाला,धौलावीरा राखीगढ़ी एवं कालीबंगन|
-स्वतंत्रता प्राप्ति पश्चात हड़प्पा संस्कृति के सर्वाधिक स्थल गुजरात में खोजे गए हैं| लोथल एवं सुतकोतदा सिंधु सभ्यता का बंदरगाह था ।

सिधु सभ्यता के निर्माता और निवासी
यह अत्यन्त ही विवादाग्रस्त विषय है। इस विवाद में कुछ विद्धानों के प्रकार हैं-

-‘डॉ. लक्ष्मण स्वरूप’ और ‘रामचन्द्र’ सिंधु सभ्यता एवं वैदिक सभ्यता दोनों के निर्माता के रूप में आर्यो को मानते हैं।
-‘गार्डन चाइल्ड’ सिंधु सभ्यता के निर्माता के रूप में ‘सुमेरियन’ लोगों को मानते हैं।
-‘राखाल दास बनर्जी’ इस सभ्यता के निर्माता के रूप में द्रविड़ों को मानते हैं
-ह्वीलर का मानना है कि ऋग्वेद में वर्णित दस्यु एवं ‘दास‘ सिंधु सभ्यता के निर्माता थे।
-इन समस्त विवादों का अवलोकन करके ‘डॉ. रमा शंकर त्रिपाठी’ का कहना है कि ‘ऐतिहासिक ज्ञान की इस सीमा पर खड़े होकर अभी इस विषय पर हमारा मौन ही सराह्य और उचित है।’

सिंधु का विदेशी व्यापार
आयातित वस्तुएं                                  प्रदेश
तांबा                                                 खेतड़ी, बलूचिस्तान, ओमान
चांदी                                                अफगानिस्तान, ईरान
सोना                                                कर्नाटक, अफगानिस्तान, ईरान
टिन                                                  अफगानिस्तान, ईरान
गोमेद                                               सौराष्ट्र
लाजवर्त                                             मेसोपोटामिया
सीसा                                                 ईरान

मुख्य स्थल

मोहनजोदड़ो से प्राप्त वृहत स्नानागार एक प्रमुख स्मारक है, जिसके माध्यम स्नान कुंड 11.88 मीटर लंबा,7.01 चौड़ा एवं 2.43 मीटर गहरा है| अनन्य कुंड लोथल एवं कालीबंगन से प्राप्त हुए हैं| मोहनजोदड़ो से प्राप्त एक शील पर तीन मुख वाले देवता पशुपतिनाथ की मूर्ति मिली है, उनके चारों और हाथी, गैंडा, चीता एवं भैंसा विराजमान है| मोहनजोदड़ो नतक कि एक कांस्य मूर्ति मिली है| हड़प्पा की मुहरों पर सबसे अधिक एक श्रंगी पशु का अंकन मिलता है ।

हड़प्पा 6000-2600 ईसा पूर्व की एक सुव्यवस्थित नगरीय सभ्यता थी। मोहनजोदड़ो, मेहरगढ़ और लोथल की ही शृंखला में हड़प्पा में भी पुर्रात्तव उत्खनन किया गया। यहाँ मिस्र और मैसोपोटामिया जैसी ही प्राचीन सभ्यता के अवशेष मिले है। इसकी खोज 1920 में की गई। वर्तमान में यह पाकिस्तान के पंजाब प्रान्त में स्थित है। सन् 1857 में लाहौर मुल्तान रेलमार्ग बनाने में हड़प्पा नगर की ईटों का इस्तेमाल किया गया जिससे इसे बहुत नुक़सान पहुँचा।

मोहनजोदाड़ो के दक्षिण में स्थित चन्हूदड़ों नामक स्थान पर मुहर एवं गुड़ियों के निर्माण के साथ-साथ हड्डियों से भी अनेक वस्तुओं का निर्माण होता था। इस नगर की खोज सर्वप्रथम 1931 में ‘एन.गोपाल मजूमदार’ ने किया तथा 1943 ई. में ‘मैके’ द्वारा यहाँ उत्खनन करवाया गया। सबसे निचले स्तर से ‘सैंधव संस्कृति’ के साक्ष्य मिलते हैं।

लोथल
यह गुजरात के अहमदाबाद ज़िले में ‘भोगावा नदी’ के किनारे ‘सरगवाला’ नामक ग्राम के समीप स्थित है। खुदाई 1954-55 ई. में ‘रंगनाथ राव’ के नेतृत्व में की गई।
इस स्थल से समकालीन सभ्यता के पांच स्तर पाए गए हैं। यहाँ पर दो भिन्न-भिन्न टीले नहीं मिले हैं, बल्कि पूरी बस्ती एक ही दीवार से घिरी थी।

कालीबंगा
यह स्थल राजस्थान के गंगानगर ज़िले में घग्घर नदी के बाएं तट पर स्थित है। खुदाई 1953 में ‘बी.बी. लाल’ एवं ‘बी. के. थापड़’ द्वारा करायी गयी। यहाँ पर प्राक् हड़प्पा एवं हड़प्पाकालीन संस्कृति के अवशेष मिले हैं।

सिधु सभ्यता के प्रमुख स्थल एवं उसके खोजकर्ता
प्रमुख स्थल                                             खोजकर्ता                                         वर्ष
1- हड़प्पा                                                माधो स्वरूप वत्स, दयाराम साहनी          1921
2- मोहनजोदाड़ो                                       राखाल दास बनर्जी                               1922
3- रोपड़                                                  यज्ञदत्त शर्मा                                       1953
4- कालीबंगा                                            ब्रजवासी लाल, अमलानन्द घोष               1953
5- लोथल                                                 ए. रंगनाथ राव                                     1954
6- चन्हूदड़ों                                              एन.गोपाल मजूमदार                             1931
7- सूरकोटदा                                            जगपति जोशी                                      1964
8- बणावली                                              रवीन्द्र सिंह विष्ट                                     1973
9- आलमगीरपुर                                        यज्ञदत्त शर्मा                                          1958
10- रंगपुर                                                माधोस्वरूप वत्स, रंगनाथ राव                  1931.-1953
10- कोटदीजी                                           फज़ल अहमद                                       1953
11- सुत्कागेनडोर                                       ऑरेल स्टाइन, जार्ज एफ. डेल्स                 1927

 

What was the main occupation of the people of Indus Civilization?

सिंधु सभ्यता Indus Civilization के लोगों का Main Occupation प्रमुख व्यवसाय क्या था

business व्यापार

indus valley civilization religion in hindi
sindhu ghati sabhyata question IAS RAS Study material
Indus Valley Civilization, Mohenjo Daro, Harappan Culture
Important Facts About question Trick sindhu ghati sabhyata

sindhu sabhyata history in hindi

sindhu ghati sabhyata ki lipi konsi hai
sindhu ghati sabhyata ki ki khoj

 

 

Subscribers and Get More Solution Send Email ID

Postbcc provide latest update news, Tips and Trick for technical solution, Biography, Punjab History, indian history, entertainment related content Like and Share Facebook Page

Recommended For You

Top